दिन के किस समय में आप होते है सबसे ज्यदा प्रोडक्टिव ?

दिनभर में कुछ एक ऐसे घंटे होते है जब आप काम पर फोकस करके अच्छा आउटपुट हांसिल कर पाते है | वैन :द साइंटिफिक सीक्रेट ऑफ़ परफेक्ट टाइमिंग के लेखक डेनियल पिंक के अनुसार, यह बहुत जरुरी है कि आप सही समय पर सही कार्य करें | डेनियल कहते है, अक्सर हम टू डू  लिस्ट बनाते हैं और ध्यान भी रखते है कि हमें क्या करना है और कैसे करना है लेकिन हम यह तय नहीं करते है कि वह काम किस समय होगा | ऐसा करना प्रोडक्टिविटी पर नकारात्मक असर डालता है | डेनियल के अनुसार इसके समाधान के लिए हमें अपने क्रोनोटाइप की जानकारी होनी चाहिए |

 

क्या है क्रोनोटाइप ?

क्रोनोटाइप आपकी पर्सनल बयोलोगिकल क्लॉक होती है, जो बॉडी के रिदम को कण्ट्रोल करती है | इसकी वजह से आप सुबह सुस्त और दिन के अगले हिस्से में ज्यादा फोकस्ड महसूस कर पाते है | क्रोनो टाइप के 3 प्रकार होते है :-

  1. सुबह के वक्त एक्टिव लोग
  2. रात के वक्त एक्टिव रहने वाले लोग
  3. वे लोग, जो सुबह से लेकर रात के बीच कभी भी एक्टिव होते है |

क्रोनो टाइप पता लगाने के लिए आपको अपने सोने और जागने के बीच का मिड पॉइंट खोजना होगा | उदहारण के तौर पर अगर आप रात को 10 बजे सोते है और सुबह 6 बजे उठते है तो आपका मिड पॉइंट हुआ 1 से 3 का समय | इसका अर्थ है कि आप सुबह एक्टिव होने वाले लोगों में से एक है | इसी तरह अगर आपका मिड पॉइंट सुबह 6 बजे से दोपहर के बीच में है तो आप दूसरी केटेगरी में शामिल है | तीसरी केटेगरी के लोगो का मिड पॉइंट दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक का है | इस तरह अपने क्रोनो टाइप को जानकर आप अपने काम कि क्षमता को बड़ा सकते है | पहली केटेगरी के लोगो को सुबह के शुरूआती समय में महत्वपूर्ण फैसले से जुड़े काम निबटाने चाहिए | ऐसे काम जिनमे क्रिएटिविटी चाहिए उन्हें दोपहर बाद या शाम को जल्दी ख़त्म करना चाहिए | दूसरी केटेगरी वाले लोगो को फैसले लेने से जुड़े काम दोपहर बाद करने चाहिए तीसरी केटेगरी के लोगो को एनिलीटिकल टास्क मिड मोर्निंग में व क्रिएटिव कामों को दोपहर बाद ख़त्म करना चाहिए |

One comment

Leave a Reply